रानी कीरति के कन्या भाई, नाचें – Shri Radha Janam Badhai

Rani Kirati Ke Kanya Bhai, Nache Nandray Vrishbhan

रानी कीरति के कन्या भाई, नाचें नन्दराय वृषभान ।

आयो नन्द गाँव बरसानों

इक संग नाचें समधी दोनों

देख देख जसुदा औ कीरति हंसि न्यौछारें प्रान ।

मन्दिर के सब गली गिरारे

चन्दन और अतर के गारे

बहु सुगन्ध के बहें पनारे

केला खम्भ धुजा और झालर मोतिन के बंधान ।

ऐसी धूम मची बरसाने

नर-नारिन के जूथ जुराने

बाजे बहुत बजे सहदाने

इक नाचे इक सैन चलावै, गावें मीठे गान ।

कहा बूढ़े कहा लोग लुगाई

लैके चाव चले उमगाई

बज रही आठों पगार बधाई

जै जैकार करें अंबर में चढ़ के देव विमान ।