राधा जनम भयौ बरसाने, आये नन्द… – Shri Radha Janam Badhai

Radha Janam Bhayo Barsane, Aye Nand Yashoda Dhay

राधा जनम भयौ बरसाने, आये नन्द यशोदा धाय ।

सुन सुन फूलीं जसुदा माई

लिये गोद में कुँवर कन्हाई

गईं जहाँ बज रही बधाई

नाचें गावें गीत मनोहर, आनन्द नहीं समाय ।

ब्रज गोपी महलन में आवें

कन्या लै के गोद खिलावें

जसुमति कीरति हँसें हंसावें

या बेटी के ऊपर लाखों बेटा हु नहिं भाय ।

कान्हा को राधा पै वारें

तन मन प्राण सबै न्यौछारै

देवन को अंचरा पैसारें

देख देख जसुदा की करनी, कीरतिहू मुसकाय ।

नंद वृषभानु सभा में ठाढ़े

कौरी भर भर मिलै जु गाढ़े

पौरी में बज रहे नगाड़े

खुर और सींग मढ़ी सोने ते, ऐसी दीनी गाय ।।

——-०——-