आनन्द झूम रह्यो वृषभानु भवन में … – Shri Radha Janam Badhai

Anand Jhoom Rahyo Vridhbhanu Bhavan Mei, Radha Janmi Aay

आनन्द झूम रह्यो वृषभानु भवन में, राधा जनमी आय ।।

सब लोकन में बजी बधाई

भादों सुदी अष्टमी आई

पीरी फाट रही सुखदाई

दुंदुभि नभ में देव बजावें, फूलन कूँ बरसाय ।

ध्वजा पताका फहरन लागे

बाजे बहुत बजावन लागे

घर घर धूम मचावन लागे

बरसाने की गली गलिन में, मंगल ही रह्यो छाय ।

दूध दही के माँट ढुरावें

ऐसी गाढ़ी कीच मचावें

कन्या को आसीस सुनावें

बहुतै भाग हमारे भैया, या लाली को पाय ।

सजी धजी गोपी जन आवें

उमा रमा के भाग लजावें

श्री राधा को लै दुलरावें

जाकौ ध्यान धरें त्रिभुवन पति मोहनहू तरसाय ।।

——०——