गोपी झमक झमक के नाचें… – Shri Krishna Janam Badhai

Gopi Jhamak Jhamak Ke Nache Gwala Gave Mithe Taan

गोपी झमक झमक के नाचें] ग्वाला गवें मीठे तान ।।

नन्द भवन में बजी बधाई

कोयल सी कौहंकी सहनाई

ढ़ोल झांझ ढप धुनी सुहाई

गहक गहक के बाजन लागे चारों ओर निसान ।

हेरी कह-कह ग्वाला गावें

लकुट पिछौरा लै फहरावें

उछरें और सबन उछरावें

तारी दै दै हँसे हंसावे नैंक न राखें मान ।

झूमक नाचें ब्रज की नारी

ऐसौ कोहकंदो भयौ भारी

मन भाई सी देवें गारी

ऐसौ आनन्द बढ़यौ नन्द घर जब जनमें ब्रजप्रान ।

मणि कुण्डल कानन में झूमें

गुंथे फूल झुक गालन चूमें

उछरत हार कुचन पै घूमें

झमकें रवा कौंधनी बिछुआ मुंदरी कर पग पान ।

——–०——–